गेटवे ऑफ इंडिया क्यों बनाया गया

मुंबई में स्थित गेटवे ऑफ इंडिया भारत की सबसे प्रसिद्ध संरचनाओं में से एक है। यदि आप समुद्री मार्ग से आ रहे हैं तो यह स्थान भारत का प्रवेश द्वार भी है।

ब्रिटिश वास्तुकार जॉर्ज विटेट ने इस इमारत की संरचना को डिजाइन किया था। यह ऐतिहासिक इमारत भारत में ब्रिटिश शासन काल में बनाई गई थी।

गेटवे ऑफ इंडिया क्यों बनाया गया

अक्सर गेटवे ऑफ इंडिया विदेशी पर्यटक की सूची में अवश्य ही घूमने योग्य स्थानों में सबसे ऊपर होता है।

गेटवे ऑफ इंडिया क्यों बनाया गया

गेटवे ऑफ इंडिया का इतिहास

तथ्य कहते हैं कि 31 मार्च 1913 को बॉम्बे के गवर्नर ने इस अद्भुत संरचना की आधारशिला रखी। इस इमारत की ऊंचाई 26 मीटर है। यह हिंदू और मुस्लिम धार्मिक प्रतीकों का एक संयोजन है और भारत की एकता को व्यक्त करता है।

आप इसके स्थापत्य में गुजराती शैली का प्रभाव देख सकते हैं। इस इमारत को बनाने का मुख्य कारण किंग जॉर्ज पंचम और क्वीन मैरी को खुश करना था। ब्रिटिश सरकार उनकी यात्रा को यादगार बनाना चाहती थी।

इस लैंडमार्क को प्रवेश द्वार के रूप में देखते हुए एक बहुत ही दिलचस्प कहानी है। गेटवे ऑफ इंडिया से अंतिम अंग्रेज अपने शासन की समाप्ति के बाद इंग्लैंड चले गए। इसका स्थान, वास्तुकार और मुंबई के लोग इसे आधुनिक भारत में अवश्य देखना चाहिए।

गेटवे ऑफ इंडिया के पास घूमने की जगह

मुंबई शहर के पास घूमने के लिए खूबसूरत हिल स्टेशन

कोलाबा कॉजवे मार्केट: मुंबई में स्ट्रीट शॉपिंग का मजा लेने के लिए यह मार्केट बेस्ट है। आपको बहुत ही कम दामों पर कपड़े मिल सकते हैं। ब्रिटिश समय से कई फैशनेबल बुटीक और इमारतें हैं जो आगंतुकों को एक आदर्श दृश्य प्रदान करती हैं।

वालकेश्वर मंदिर: इस मंदिर में एक महत्वपूर्ण हिंदू कहानी है जो कहती है कि भगवान राम ने एक बार समुद्र और अपने तीरों के संबंध में इस मंदिर का दौरा किया था। वैज्ञानिकों का कहना है कि मंदिर की उम्र 3000 साल से भी ज्यादा है।

नेहरू विज्ञान केंद्र: आप यहां कला शो, विज्ञान प्रदर्शनियां और कुछ अंतरराष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रम देख सकते हैं। अगर आपके अंदर विज्ञान की भावना है तो यह जगह आपके लिए उपयुक्त है।

गेटवे ऑफ इंडिया तक कैसे पहुंचे

गेटवे ऑफ इंडिया क्यों बनाया गया

जैसा कि हम जानते हैं कि मुंबई भारत की फिल्म सिटी है। इसलिए यह कई माध्यमों से दुनिया से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। आप निम्नलिखित में से किसी के माध्यम से यहां जा सकते हैं जो आपके आराम के अनुकूल हो।

हवाई मार्ग से: मुंबई हवाई मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है और इसलिए गेटवे ऑफ इंडिया से जुड़ा है। मुंबई में तीन हवाई अड्डे हैं – मुंबई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, छत्रपति शिवाजी हवाई अड्डा और सांता क्रूज़ घरेलू हवाई अड्डा। आप किसी भी हवाई अड्डे पर उतर सकते हैं जिससे आपको लाभ हो और वहां से आप गेटवे ऑफ इंडिया के लिए कैब प्राप्त कर सकते हैं।

ट्रेन से: मध्य, पूर्व और पश्चिम भारत से ट्रेनें छत्रपति शिवाजी जंक्शन पर पहुंचती हैं। उत्तर भारत की ट्रेनें मुंबई सेंट्रल स्टेशन पर पहुंचती हैं। कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप भारत के किस हिस्से से आ रहे हैं, आप इन दो स्टेशनों पर सवार हो सकते हैं जो आपको गेटवे ऑफ इंडिया तक ले जाएंगे।

सड़क मार्ग/स्वयं ड्राइव द्वारा: मुंबई सार्वजनिक परिवहन माध्यम से भी अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। कई अन्य राज्यों से बसें मुंबई सेंट्रल बस स्टेशन पर पहुंचती हैं। एशियाड बस-स्टैंड पुणे और नासिक से बसों की मेजबानी करता है।

गोआ में घूमने के लिए सबसे अच्छा समुद्र तटों

गेटवे ऑफ इंडिया पर जाने का सबसे अच्छा समय

आप यहां साल में कभी भी आ सकते हैं। लेकिन यहां के वातावरण का अनुभव करने के लिए नवंबर से मार्च के बीच का समय सबसे अच्छा है। इस दौरान मौसम लगभग खुशनुमा बना रहता है।

निष्कर्ष:

गेटवे ऑफ इंडिया क्यों बनाया गया- मुंबई में बहुत सारे स्मारक और इमारतें हैं जो देखने लायक हैं। लेकिन गेटवे ऑफ इंडिया संस्कृति, उष्णकटिबंधीय समुद्र के स्तर और इतिहास को एक साथ देखने के लिए एक आदर्श स्थान है। यहां लगभग हर देश और जाति से लोग आते हैं।

आप बच्चों और बुजुर्गों को इस दृश्य का आनंद लेते हुए देख सकते हैं और आप उन स्थानीय विक्रेताओं को भी देखेंगे जो उन आगंतुकों को अपना सामान बेचने की कोशिश कर रहे हैं। सरल शब्दों में, यदि आप एक वास्तविक यात्री हैं और दुनिया की सबसे खूबसूरत और ऐतिहासिक जगहों को देखना चाहते हैं, तो आपको यहां की यात्रा करनी चाहिए।

भगवान शिव का 12 ज्योतिर्लिंग दर्शन

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.